कागज पर ही बन बन गए आठ टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज, बिल्डिंग का अता पता नहीं  

कागज पर ही बन बन गए आठ टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज, बिल्डिंग का अता पता नहीं  

By: Sudakar Singh
January 24, 08:29
0
.........

Live Bihar Desk : राज्य में आठ नए टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेजों की घोषणा हो गई, लेकिन अब उन संस्थानों में शिक्षण कार्य शुरू कराने में सरकार को कामयाबी नहीं मिल पाई है। 22 जनवरी 2016 को आठ नए टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज खोलने का निर्णय सरकार ने लिया था। इसके अलावा पांच नए जिला शिक्षा शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) के निर्माण की भी घोषणा हुई थी। अब दो साल बाद उन्हें अस्थायी परिसर आवंटित किया जा रहा है। वर्ष 2017-18 के बजट में भी इस योजना का जिक्र था।


इन ट्रेनिंग कॉलेजों के भवन निर्माण के लिए बिहार राज्य शैक्षणिक आधारभूत संरचना निगम लिमिटेड को कार्य सौंपा गया है। दावा किया जा रहा है कि अगले शैक्षणिक सत्र तक कार्य को पूरा कर लिया जाएगा। विश्व बैंक की परियोजना के तहत इन भवनों का निर्माण कार्य किया जा रहा है। भवन निर्माण कार्य पूरा किए जाने के साथ ही इन कॉलेजों को नए भवन में शिफ्ट किया जाएगा। हालांकि, दो वर्ष में मामला भवन पर ही अटके होने के कारण सवाल खड़े होने लगे थे। इसके बाद शिक्षा विभाग ने सभी कॉलेजों में प्रभारी प्राचार्यों की नियुक्ति कर दी है। 


सरकार की ओर से कहा जा रहा है कि अस्थायी परिसर स्थित कार्यालय से सभी प्रकार के कार्यों को संपादित किए जाने में सफलता मिलेगी। शिक्षा विभाग ने दो साल बाद भी इन ट्रेनिंग कॉलेजों में शैक्षणिक कार्यक्रम न शुरू होने पर कहा कि अगले सत्र से इसे शुरू कराने की तैयारी की जा रही है। इन संस्थानों के निर्माण के बाद ही उन्हें मान्यता दिए जाने का प्रावधान है। इसलिए सरकार ने पहले घोषित संस्थानों के भवनों के निर्माण पर जोर दिया है। कार्य शीघ्र पूरा करा लिया जाएगा। 
 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments