लवगुरु प्रो. मटुकनाथ ने किया मिलन समारोह का आयोजन, गजलों और शायरी से सजी महफिल

Patna : लवगुरु के नाम से मशहूर प्रोफेसर मटुकनाथ चौधरी बुधवार को पटना विवि के स्नातकोत्तर हिन्दी विभाग से सेवानिवृत्त हो गये। ‘लव गुरु’ मटुकनाथ और जूली शायद आपको याद हों। पटना में प्रोफेसर रहे अधेड़ उम्र के मटुकनाथ ने अपनी ही छात्रा जूली से प्यार किया और फिर घर परिवार छोड़ कर दोनों एक दूसरे के हो गए। गीतों, गजलों और शायरी की तीन घंटे की महफिल में उपस्थित लोगों ने प्रोफेसर मटुकनाथ को भावी जीवन की शुभकामना दी।

मटुकनाथ और जूली को परिवार और समाज से खूब प्रताड़ना मिली लेकिन फिर भी दोनों ने हार नहीं मानी। मटुकनाथ की धर्मपत्नी आभा चौधरी पिछले साल साल से निर्वासित जिंदगी जी रही हैं। पुराने परिचितों ने पीयू के छात्रावास में छात्र मटुकनाथ के बीते दिनों के संस्मरण साझा किये। प्रोफेसर मटुकनाथ एक अध्ययन केंद्र की स्थापना करेंगे जहां प्रेम और जीवन दर्शन की मुख्य रूप से शिक्षा दी जाएगी। उन्होंने कहा कि शिक्षा को एक खांचे में रखकर सीमित कर दिया गया है।

 Prof. Matuknath Chaudhary, famously known as Loveguru

प्रेम परिवार की ओर से ऐसे आयोजन होते रहेंगे, जहां शिक्षा, समाज, संस्कृति और जीवन मूल्यों से जुड़ी बातें होती रहेंगी। प्रो मटुकनाथ सेवानिवृत्ति के बाद की योजनाओं को लेकर अपने पोस्ट में बताते हैं कि…मैं ब्याह करूंगा …बरतुहार बहुत तंग कर रहे हैं! उनकी आवाजाही बढ़ गई है! लेकिन मैं एक अनुशासित, शर्मीला और परंपरा प्रेमी लरिका हूं! प्रो मटुकनाथ ने कहा कि विद्यार्थियों का प्यार ही मेरी ऊर्जा है। छात्र ही मेरे अभिभावक हैं और उनके लिये मैं सदैव तत्पर रहूंगा। उन्होंने कहा कि वे अब बंधनों से आजाद हो चुके हैं और समाज व राष्ट्र की उन्नति के लिये लोगों को नई दिशा देना चाहते हैं। वे 2007 से पति से कानूनी लड़ाई लड़ रही हैं। छह महीने से उनका मामला आर्डर पर चल रहा था। अब फैसला सुना दिया गया है, यह घरेलू हिंसा कानून में नए तरह का फैसला है।

The post लवगुरु प्रो. मटुकनाथ ने किया मिलन समारोह का आयोजन, गजलों और शायरी से सजी महफिल appeared first on Mai Bihari.