राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया याचिकाकर्ताओं को झटका, पुराने दस्तावेजों पर ही होगी सुनवाई

PATNA : राफेल डील मामले में यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी और वकील प्रशांत भूषण की रिव्यू पेटीशन पर सुनवाई के दौरान जब प्रशांत भूषण ने नया दस्तावेज पेश करने की कोशिश की तो कोर्ट ने कहा कि हम किसी भी नए दस्तावेज पर सुनवाई नहीं करेंगे। वहीँ मामले की सुनवाई के दौरान अटर्नी जनरल ने कहा कि सरकार 2 अखबार और एक वरिष्ठ वकील पर क्रिमिनल एक्शन लेंगे। अटर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि हिंदू अखबार, और याचिकाकर्ता चोरी के दस्तावेजों पर भरोसा कर रहे हैं, और इसके लिए उन्हें आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम के तहत केस का सामना करना पड़ेगा। 

अटर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा रक्षा मंत्रालय के गोपनीय दस्तावेज चुराए गए और फिर उसका इस्तेमाल किया गया। ये राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा मामला है और दस्तावेजों को चुराना राष्ट्रीय सुरक्षा में सेंध लगाने के बराबर है, इसकी जांच चल रही है और सरकार इससे निपट रही है। ये एक संवेदनशील मामला है। गौरतलब है कि राफेल डील मामले में उठे विवाद को लेकर प्रशांत भूषण, अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा ने कोर्ट में याचिका डाली थी, जिसके के बाद कोर्ट ने सरकार को आदेश दिया था कि सभी दस्तावेज कोर्ट को सीलबंद लिफ़ाफ़े में सौंपे जाएँ ताकि कोर्ट ये देख सके कि डील में अनियमितता हुई है कि नहीं। दस्तावेजों की देखने के बाद कोर्ट ने इस डील को क्लीनचिट दे दिया था जिसके बाद एक बार फिर से प्रशांत भूषण, अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा द्वारा कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका डाली गई। जिस पर आज सुनवाई हो रही है।

Quaint Media Quaint Media consultant pvt ltd Quaint Media archives Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, live india

राफेल डील में घोटाले को लेकर कांग्रेस समेत सभी विपक्षी पार्टियाँ सरकार पर घोटाले के आरोप लगाती रही है। राहुल गाँधी चौकीदार चोर है नारे के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरते रहे हैं और सीधे सीधे उनपर घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाते रहे  हैं। राहुल गाँधी ये भी आरोप लगते हैं कि प्रधानमंत्री ने अनिल अम्बानी को फायदा पहुँचाने के लिए डील को बदला।