राहुल गाँधी की रैली से तेजस्वी ने बनाई दूरी, जिसके चलते विरोधियों के निशाने पर आए तेजस्वी

PATNA: कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष RAHUL GANDHI  ने आज बिहार के सुपौल में चुनावी सभा को सम्बोधित किया। राहुल गाँधी के साथ मंच पर महागठबंधन के सभी दलों के नेता मौजूद रहे लेकिन आरजेडी का कोई बड़ा नेता मंच पर दिखाई नहीं दिया। आरजेडी नेता TEJASHWI YADAV  ने पहले ही इस जनसभा से दूरी बना ली थी। RAHUL GANDHI  की जनसभा से दूरी बनाए जाने को लेकर विरोधी दलों ने TEJASHWI YADAV  पर निशाना साधना भी शुरू कर दिया।

मीडिया से बात करते हुए बिहार कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने बताया कि राहुल गाँधी की सभा के लिए तेजस्वी यादव को निमंत्रण भी भेजा गया था लेकिन तेजस्वी यादव अपने व्यस्त कार्यक्रम के चलते राहुल गाँधी के कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हो सके। राहुल गाँधी के साथ मंच साझा न करने को लेकर विरोधी दलों का कहना है कि बिहार में महागठबन्धन अब पूरी तरह से बिखर चुका है। वहीँ कुछ लोगों का कहना है कि सीटों के बंटवारे के चलते हुए विवाद से दोनों नेताओं के बीच दूरी बन गई जो अभी तक खत्म नहीं हुई है।

LIVE INDIA

आरजेडी नेताओं का कहना है कि तेजस्वी यादव ज्यादा से ज्यादा जनता के बीच जाकर मिलना चाहते हैं। तेजस्वी यादव की आज भी 4 रैलियां हैं इसी के चलते वह राहुल गाँधी के कार्यक्रम में सम्मिलित नहीं हो सके। इसका मतलब यह तो नहीं कि उनके और राहुल गाँधी के बीच कोई विवाद चल रहा हो।

वहीँ सुपौल की रैली को लेकर कहीं न कहीं तेजस्वी यादव ने पप्पू यादव की पत्नी रंजीत रंजन को लेकर भी दूरी बनाई होगी। बता दें कि तेजस्वी यादव और रंजीत रंजन के पति पप्पू यादव में मधेपुरा सीट को लेकर विवाद हो गया। बता दें कि मधेपुरा सीट से इस बार आरजेडी के टिकट पर शरद यादव भी चुनावी मैदान में उतरे हैं। इसी के चलते तेजस्वी यादव ने पप्पू यादव से अपना नामांकन वापस लेने की बात कही लेकिन पप्पू यादव ने उनकी बात नहीं मानी। इस वजह से दोनों के बीच विवाद बढ़ गया।