रेल बजट से बिहार हुआ मालामाल, पिछले वर्ष की तुलना में मिला 542 करोड़ अधिक

PATNA: केन्द्र सरकार ने रेल बजट में बिहार को पिछले साल की तुलना में अधिक राशि आवांटित किया। इस बार रेलवे के बिहार इकाई  को लगभग 542 करोड़ रुपया ज्यादा दिया गया है। आपको बता दें कि वर्ष 2019-20 के लिए ईस्ट सेन्ट्रल रेलवे को 4560 करोड़ रुपया मिला है। बताया जा रहा है कि इससे नई रेल लाइन पर 448 करोड़ रुपये खर्च किये जाएंगे। वहीं रेल कारखानों पर 136 करोड़ तो रेलवे ट्रैक के नवीनीकरण पर 635 करोड़ पर खर्च होगा। इसके अलावा संचार सुविधा, सिग्नल, अंडर पुल और यात्रियों की सुविधा के लिए भी बजट में प्रावधान हैं।

Rail Minister Piyush Goal

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पेश किया था। इसमें सरकार अपने आगामी कदम के बारे में बताया और जनता के लिए कुछ तोहफा भी लाया था। वित्त मंत्री ने बजट पेश करते हुए कहा कि अगले कुछ वर्षों में हमारी अर्थव्यवस्था 5 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच जाएगी। वहीँ देश किसानों, सबको घर और बिजली व्यवस्था को लेकर वित्त मंत्री ने बड़ी योजना सबके सामने रखी। बिजली को लेकर वित्त मंत्री ने कहा कि 2022 तक देश के प्रत्येक घर में बिजली पहुंचेगी। इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी कहा कि 2024 तक हर नल में पानी होगा।

इस बार के बजट पर बिहारी नेताओं ने क्या कहा-

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि 2019 का बजट आम और मध्यम वर्ग के लोगों को काफी फायदा देगा। इस बजट से रोजगार बढेगा। इतना ही नहीं, यह बजट किसानों के लिए काफी उपयोगी है। सुशील मोदी का कहना है कि इस बजट से बिहार को बहुत फायदा मिलेगा। इस बजट के लिए सुशील कुमार मोदी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद दिया।

बजट में क्या मुख्य घोषणा हुई-

पेट्रोल, डीजल, तंबाकू, सोना, चांदी, सिगरेट जैसी वस्तुओं का दाम बढ़ने वाला है। वहीं बहुत समान सस्ते मूल्यों पर भी उपलब्ध होगा। अब 45 लाख तक का घर खरीदने पर डेढ़ लाख तक का छूट मिलेगा। इसके अलावा इलेक्ट्रिक कारों की खरीददारी पर सस्ती हो जायेगी क्योंकि सरकार ने इसपर लगने वाले 12 फीसदी जीएसटी टैक्स को घटाकर 5 फीसदी कर दी है। इतना ही नहीं, इलेक्ट्रिक कारों खरीदने पर बैंकों से कम ब्याज पर ऋण भी मिलेगा, जिससे इलेक्ट्रानिक गाड़ियां सस्ती हो जायेगी।