चुनाव में मिली हार से नाराज मीसा भारती ने वापस लिया आवंटित फंड

PATNA : बिहार से एक बहुत बड़ी खबर लालू परिवार से मिल रही है । खबर है कि लालू की बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती ने लोकसभा चुनावों के पहले पाटलिपुत्र संसदीय क्षेत्र में जिन 15 करोड़ की योजनाओं की अनुशंसा की थीं उसे रद्द कर दी हैं । मीसा भारती का यह फैसला दिखाता है कि भारती राजनीति में अवसरवाद और स्वार्थ कितना ज्यादा व्याप्त है । मीसा भारती का फैसला चिंता का विषय इसलिए है क्यों की उन्होंने यह फैसला चुनाव हारने के बाद लिया है ।

माना जा रहा है कि इस फैसले से मीसा पाटलिपुत्र संसदीय क्षेत्र की जनता से अपनी हार का बदला ली हैं ।आपको बता दें कि मीसा भारती राज्यसभा सांसद बनने के तीन वर्षो के कार्यकाल में अपने सांसद निधि का उपयोग नहीं की थीं । लेकिन जैसे ही 2019 का चुनाव करीब आया मीसा भारती ने अपने सांसद निधि का उपयोग करते हुए फटाफट अपने संसदीय क्षेत्र पाटलिपुत्र में 15 करोड़ की योजनाओं की अनुशंसा कर दी ।

मीसा भारती के इस फैसले पर वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक डाॅ नवल किशोर ने चुनाव आयोग से इस पर संज्ञान लेने की अपील की है । उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मीसा भारती ने लोगों को प्रलोभन देकर उनके साथ छलावा किया है। चुनाव हारने के बाद अनुशंसा को वापस लेना यह दिखाता है कि जिन्होंने उन्हें वोट नहीं दिया उन्हें वह दंडित करना चाहती हैं । यह लोकतांत्रिक नैतिकता के खिलाफ है । चुनाव आयोग को उनपर कार्रवाई करनी चाहिए । वहीं कांग्रेस प्रवक्ता प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा है कि मीसा को हर हाल में इस फंड का क्रियान्वयन करना चाहिए था । आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव में राज्यसभा सांसद मीसा भारती को पाटलिपुत्र लोकसभा सीट पर बीजेपी के रामकृपाल यादव से भारी हार मिली थी ।