रामविलास पासवान से नाराज़ कई लोजपा (LJP) नेताओं ने बनाया अलग मोर्चा

PATNA:केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) दो हिस्सों में बंट गयी है। पार्टी से जुड़े कई नेताओं ने बगावती तेवर दिखते हुए नया मोर्चा बनाने का ऐलान कर दिया है। इस मोर्चे में पूर्व सांसद से लेकर राष्ट्रीय महासचिव स्तर तक के नेता शामिल हैं। लोजपा के राष्ट्रीय महासचिव सत्यानन्द शर्मा ने कहा कि वह लोक जनशक्ति पार्टी सेक्युलर नाम से नया मोर्चा बनाएंगे।

रामविलास पासवान

पार्टी छोड़ने वाले नेताओं का मानना है कि लोजपा में भ्रष्टाचार बढ़ गया है। पार्टी छोड़ने वाले अन्य बड़े नेताओं में राष्ट्रीय सचिव सुरेंद्र चौधरी ,कोषाध्यक्ष रमेश चंद्र कपूर,महासचिव अनिल पासवान, विष्णु पासवान जैसे नेता शामिल हैं। सत्यानन्द शर्मा ने इन सभी नेताओं के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता की और रमेश चंद्र कपूर के नेतृत्व में लोक जनशक्ति पार्टी (सेक्युलर) को संचालित करने का ऐलान किया।

टिकट बंटवारे से ये नेता थे नाराज़ –

राष्ट्रीय महासचिव सत्यानन्द शर्मा ने कहा कि पार्टी में ज़मीनी कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की जाती है। पार्टी में लोकतंत्र समाप्त हो गया है। सत्यानन्द शर्मा ने रामविलास पासवान पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी वजह से पार्टी के संगठन से जुड़े लोगों की लगातार अनदेखी हुई है। लोजपा में परिवार के अलावा किसी की कोई अहमियत नहीं है।उन्होंने पार्टी पर परिवारवाद को बढ़ावा देने और प्राइवेट कंपनी की तरह काम करने का भी आरोप लगाया।आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव में टिकट बंटवारे के बाद से पार्टी के नेताओं में असंतोष व्याप्त था। वैशाली के पूर्व सांसद रामा सिंह पिछले कई दिनों से बागी तेवर अपना रहे थे। तो कई ऐसे लोग भी असंतुष्टों में शामिल हैं जिन्हें टिकट मिलने की आस थी लेकिन पूरी नहीं हो सकी थी। बिहार में एनडीए की सहयोगी रही लोजपा को लोकसभा चुनाव में छह सीटें मिली थीं और उसके सभी छह प्रत्याशी चुनाव जीतने में सफल रहे थे।