मुस्लिम, देश की भावनाओं और प्रभू राम के सम्मान में राम-मंदिर बनाने की पहल करें-रविशंकर प्रसाद

PATNA: रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि राम मंदिर हमारा या हमारी पार्टी भाजपा का चुनावी मुद्दा नहीं है बल्कि राम मंदिर हमारी आस्था का विषय है। यह हमारी अपेक्षा है कि भगवान राम के जन्मस्थल अयोध्या में एक भव्य राम मंदिर बनना चाहिए।

आपको बता दें कि हाल ही राम मंदिर के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता का रास्ता अपनाया है। इसपर रविशंकर ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट कोई भी रास्ता अपनाये, लेकिन मैं बड़ी विन्रमता से अनुरोध करता हूं कि कोर्ट जल्दी अपना फैसला दे। उन्होंने कहा कि मैं इलाहाबाद में वकील रहा हूं और इस केस के बारे में लगभग चीजें जानता हूं। राम मंदिर को बनाने के समर्थन में इतने साक्ष्य मौजूद हैं कि उस साक्ष्य के आधार पर अपने-आप में एक अच्छी बहस और चर्चा हो सकती है।

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद

मुस्लमान भाईयों को राम मंदिर बनाने के लिए पहल करना चाहिए-

भाजपा की पूर्ण बहुमत सरकार बनने के बाद रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जब देश में इतना बड़ा निर्णायक फैसला आया है और देश में दूसरा माहौल है तो मुझे लगता है कि शायद इस देश की असलीयत के बारे में मुस्लमान भाईयों को भी सोचना-समझना चाहिए। इस देश की भावनाओं, हिन्दुओं के आस्थाओं और प्रभू राम के सम्मान के लिए मुसलमानों को राम मंदिर बनाने के लिए एक पहल करनी चाहिए। अगर इस मुद्दे का मुस्लिम समुदाय ही कोई सार्थक समाधान निकाले तो अच्छा रहेगा।

रविशंकर ने यह बात मीडिया के साथ एक इंटरव्यु में कहा। राम मंदिर के अलावा उन्होंने पटना साहिब के बारे में कहा कि अब पटना की आवाज खामोश नहीं रहेगी क्योंकि संसद में पिछले पांच सालों में पटना साहिब के पूर्ववर्ती सांसदों ने एक भी सवाल नहीं पूछा था और ना ही एक भी बार हस्तक्षेप किया। इतना ही नहीं, उन्होंने एक भी लोकहित और लोक-महत्व के मुद्दे संसद भवन में नहीं उठाये। वे इस बातचीत के दौरान पटना साहिब के पूर्व सांसद शत्रुघ्न सिन्हा का नाम सीधे-सीधे लेने से बचते दिखे। गौरतलब है कि पटना साहिब से शत्रुघ्न सिन्हा को ह’राकर रविशंकर प्रसाद लोकसभा के सांसद और मोदी मंत्रिमंडल में कानून मंत्री बने।