टू लेन सड़क को फोर लेन करने की मांग पर गडकरी बोले, चुनाव जिताइये, सड़क फोर लेन बनवा देंगे

PATNA : कल नितिन गडकरी चंपारण के दौरे पर थे। वहां उन्होंने कई योजनाओं का शिलान्यास किया और तैयार हो चुकी कई योजनाओं का लोकार्पण किया। उनमे एक योजना ऐसी थी जिसे 2014 में पूरा होना था लेकिन नितिन गडकरी ने 2019 में कल उसका शिलान्यास  किया। जब कल शिलान्यास काएय्क्रम के दौरान सांसद पवन जायसवाल ने इस टू लें सड़क को फी लें करने की मांग की तो केन्द्रीय मंत्री ने कहा ‘चुनाव का समय है, आप लोग चुनाव जीता दीजिये तो फोर लें सड़क बनवा दूंगा। 

दरअसल इस सड़क की पूरी कहानी ये है कि इंटिग्रेटेड चेक पोस्ट (आइसीपी) का शिलान्यास 2010 में हुआ था और 2011 में आइसीपी को पीपराकोठी फोरलेन से जोड़ने वाली  टू लेन सड़क बनाने की शुरुआत हुई थी। सड़क को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया 29 माह। लेकिन इस सड़क का निर्माण करने वाली कंपनी तांतिया कंस्ट्रक्शन ने सड़क नहीं बनाया तो उसका टेंडर रद्द कर फिर से नया टेंडर जारी किया गया। उस सड़क का लगभग 55 फीसदी हिस्सा बन कर तैयार है। इसी के शिलान्यास कार्यक्रम में सांसद पवन जायसवाल ने ये मांग रखी थी। 

QUAINT MEDIA

अपने एक दिवसीय बिहार दौरे के दौरान कल बघा में नितिन गडकरी ने करोड़ों की सौगात दी। गडकरी  366.62 करोड़ की लागत से राष्ट्रीय राजमार्ग और केन्द्रीय सड़क निधि से पांच परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया और लोगों को संबोधित करते हुए कि “किसानों की तरक्की के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक निति बनाई है जिससे देश महाशक्ति बन सकें और किसान अमीर बन सकें। उन्होंने कहा कि सिर्फ धान, गेहूं और मक्का का उत्पादन कर के किसानों की आर्थिक स्थिति नहीं सुधर सकती। बायोकेमिकल्स, बायोडीजल, सीएनजी, एथनॉल इत्यादि का उत्पादन कर के किसान प्रगति के पथ पर बढ़ सकते हैं। नितिन गडकरी ने राष्ट्रीय जलमार्ग -37 गंगा -गंडक संगम स्थल से बगहा के बीच 240 किलोमीटर खंड का शिलान्यास किया और कहा कि 6 महीने के भीतर इस मार्ग से मालवाहक जहाज चलने लगेंगे। नेपाल से सीधे वाराणसी और हाजीपुर तक जल यात्रा आरम्भ हो जायेगी। इस रूट के शुरू होने से व्यापारियों को काफी फायदा पहुंचेगा। पनियाजहज का भी परिचालन शुरू करने की कोशिश की जायेगी। इस अवसर पर बगहा के विधायक राघव शरण पांडे, रामनगर की विधायक भागीरथी देवी, लौरिया के विधायक विनय बिहारी समेत कई अधिकारी उपस्थित थे।