राजद ने जारी किया अपना घोषणा पत्र, पिछड़ी जातियों के कल्याण पर दिया गया है जोर

PATNA : राजद नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने अपना घोषणा पत्र राजद कार्यालय में जारी किया। पार्टी ने अपने घोषणा पत्र को प्रतिबद्धता पत्र नाम दिया है। इस अवसर पर आलोक मेहता, मनोज झा, रामचंद्र पूर्वे और मदन शर्मा मौजूद थे। तेजस्वी यादव ने घोषणा पात्र जारी करते हुए कहा कि उनकी पार्टी सामाजिक न्याय की प्रतिबद्धता के साथ 2019 के लोकसभा चुनाव में जा रही हैं। इस सामाजिक न्याय की नींव लोहिया जी ने रखी थी और हमारे पार्टी अध्यक्ष लालू यादव ने इसे आगे बढ़ाया। उन्होंने कहा कि समाज में हाशिये पर रखे गए लोगों को सम्मान दिलाना हमारा पहला लक्ष्य है। राजद इन हाशिये पर पड़े लोगों के हितों की रक्षा हर कीमत पर करेगी ताकि वो शान से कह सके ये देश उनका है किसी की बपौती नहीं है। 

घोषणा पत्र में दलितों, पिछड़ों और अतिपिछड़ों को आबादी के अनुपात में आरक्षण देने का वादा किया गया है। पार्टी ने सरकारी नौकरियों में प्रमोशन का समर्थन किया है और इसके लिए संविधान में संशोधन किया जाएगा। निजी क्षेत्रों में भी आरक्षण की वकालत की गई है। 200 पॉइंट रोस्टर सिस्टम को संवैधानिक दर्जा दिलाया जाएगा। घोषणा पत्र में कहा गया है सरकार आने पर  जाति आधारित जनगणना करायी जायेगी। राज्य में ही रोजगार की व्यवस्था करेगी ताकि लोगों को घर छोड़ कर न जाना पड़े। उन्होंने कहा कि राजद का संकल्प हर घर तक विकास पहुँचाने की है, ना कि मुट्ठी भर लोगों तक। बिहार के प्रवासी मजदूरों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया जाएगा।

quaint media

सरकारी नौकरियों में रिक्त पदों को जल्द से जल्द भरा जाएगा। जीडीपी का 4 फीसदी स्वास्थ्य पर खर्च किया जाएगा। ताड़ी पर से प्रतिबन्ध हटाया जाएगा। कांग्रेस की न्याय योजना का पार्टी ने समर्थन किया है। कुला मिला कर राजद के घोषणा पत्र में आरक्षण और पिछड़ों पर ही सबसे ज्यादा जोर दिया गया है जो राजद का पारंपरिक वोटबैंक भी है। अल्पसंख्यकों के हितों का ख्याल रखने का भी वादा किया गया है।