महागठबंधन को जीतनराम मांझी ने दिखाए बागवती तेवर, आरके सिन्हा ने दिया बीजेपी में आने का न्यौता

PATNA: बिहार में राजनीतिक उठापटक शुरू हो चुकी है। पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने महागठबंधन से अलग होने का फैसला कर लिया है। मांझी ने अपने बागवती तेवर दिखाना शुरू कर दिया है। वहीँ बीजेपी नेता आरके सिन्हा ने मांझी को बीजेपी में आने का न्यौता भी दे दिया है।

शुक्रवार को बापू के रामराज्य और मोदी के सुराज रथ को लेकर गया पहुंचे राज्य सभा सांसद आरके सिन्हा ने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि जीतनराम मांझी जमीन से जुड़े हुए नेता हैं। अगर उनका मोह महागठबंधन से भंग हो गया है तो वह बीजेपी में फिर से शामिल हो सकते हैं।

बता दें महागठबंधन को लेकर जीतनराम मांझी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वह बिहार और झारखंड में होने विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी अकेले दम पर चुनावी मैदान में उतरेगी। उन्होने आगे कहा कि उनके बार-बार कहने पर भी महागठबंधन में कोई काे-ऑर्डिनेशन कमेटी का गठन नहीं किया गया। जिसके चलते महागठबंधन के सहयोगी दलों के बीच तालमेल की कमी देखी गई। ऐसी स्थिति में अकेले चुनाव लडऩा ही बेहतर होगा।

मांझी ने झारखंड विधानसभा चुनाव को लेकर कहा है कि उनकी पार्टी हम एक सीट पर चुनाव लड़ेगी या 25 सीटों पर इसका फैसला जल्द ही कर लिया जाएगा।