नागमणि के आरोप पर RLSP ने किया पलटवार, कहा-पत्नी के लिए टिकट न मिलने पर बन गए बागी

PATNA : नागमणि ने न सिर्फ रालोसपा से इस्तीफ़ा दिया बल्कि  उपेंद्र कुशवाहा पर पैसे लेकट टिकट बेचने का आरोप भी लगाया। नागमणि के आरोप के बाद आप पार्टी ने उनपर पलटवार किया है। पार्टी के महासचिव सत्यानन्द दांगी ने नागमणि के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि इसमें कोई सच्चाई नहीं है और ये मनगढ़ंत आरोप हैं। साथ ही उन्होंने नागमणि पर आरोप लगाया कि वो खुद (नागमणि) के साथ साथ अपनी पत्नी के लिए भी टिकट मांग रहे थे। जब पार्टी अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने इनकार कर दिया तो उन्होंने बागी तेवर अपना लिए। 

गौरतलब है कि नीतीश के साथ मंच साझा करने के कारण कुशवाहा ने उन्हें पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष पद से हटा दिया और कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया था। जिसके जवाब में नागमणि ने कहा था कि सरकारी कार्यक्रम में जाना गलत नहीं है। साथ ही उन्होंने कुशवाहा को सबसे बड़ा नौटंकीबाज भी बताया था। प्रेस कांफ्रेस कर के नागमणि रालोसपा अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा पर कई आरोप लगाये। उन्होंने कहा कि उपेन्द्र कुशवाहा 9 करोड़ रुपये ले कर टिकट बेचते हैं। कांग्रेस नेता तारीक अनवर ने पार्टी छोड़ने के लिए नागमणि को लताड़ लगाई। उन्होंने नागमणि पर हमला करते हुए कहा था कि नागमणि सबसे अधिक पार्टी बदलने वाले मौकापरस्त हैं।

QUAINT MEDIA

इससे पहले नागमणि ने कहा था कि 2 फ़रवरी को उपेन्द्र कुशवाहा पर कोई लाठी चार्ज नहीं हुआ था बल्कि उनके (कुशवाहा) के चमचों ने पूरा प्लान तैयार किया था। गौरतलब है कि 2 फरवरी को शिक्षा में सुधार की मांग को लेकर रालोसपा ने पटना में राजभवन तक आक्रोश मार्च निकाला था, जिसके दौरान  कार्यकर्ताओं ने प्रतिबंधित क्षेत्र में प्रवेश की कोशिश की।  पुलिस के रोकने पर कार्यकर्ताओं और पुलिस में टकराव हो गया जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। लाठी चार्ज में  दर्जनों आरएलएसपी कार्यकर्ताओं के साथ उपेंद्र कुशवाहा भी घायल हो गए थे, जिसके बाद उन्हें पीएमसीएच में भर्ती करवाया गया था। लाठी चार्ज के विरोध में रालोसपा ने 4 फ़रवरी को बिहार बंद का आह्वान किया था, जिसे महागठबंधन के सभी सहयोगियों और वाम दलों ने भी समर्थन दिया था।