उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश सरकार पर लगाया घोटाले का आरोप

PATNA:रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश सरकार पर वित्तीय घोटाला करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि ये मामला समाज कल्याण विभाग से जुड़ा है। समाज कल्याण विभाग ने 2018 में 34000 मोबाइल खरीदे थे, जिसके लिए कुल 31 करोड़ चार लाख 14 हजार रुपये का भुगतान किया गया था। उपेंद्र कुशवाहा का आरोप है कि इस खरीद में  सरकार ने बाजार मूल्य से 6 करोड़ 78 लाख रुपये से ज्यादा का भुगतान किया  है।

उपेंद्र कुशवाहा ने मीडिया को इस मामले से जुड़े कागजात मुहैया कराए हैं। साथ ही उनका दावा है कि आने वाले दिनों में वो और भी विभागों में हुए भ्रष्टाचार का खुलासा करेंगे। इस विषय में कुशवाहा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र भी लिखा है, साथ ही पूरे मामले की जांच की मांग की है। कुशवाहा ने बिहार सरकार को आगाह किया है कि अगर जांच नहीं की गई तो पार्टी आंदोलन पर उतरेगी। आपको बता दें कि उपेंद्र कुशवाहा और नीतीश कुमार के बीच पहले से मतभेद रहे हैं। उपेंद्र कुशवाहा नीतीश कुमार की सरकार पर पहले से हमलावर रहे हैं।

नीतीश कुमार और उपेंद्र कुशवाहा

कौन है उपेंद्र कुशवाहा ?

उपेंद्र कुशवाहा पूर्ववर्ती मोदी सरकार में मंत्री थे और लोकसभा चुनाव से ठीक पहले वह महागठबंधन में शामिल हो गए थे। 2013 में गठित रालोसपा ने 2014 का लोकसभा और 2015 का विधानसभा चुनाव एनडीए में रहकर लड़ा था। पार्टी ने 2014 लोकसभा चुनाव में तीन सीटें हासिल की थीं। खुद उपेंद्र कुशवाहा काराकाट लोकसभा क्षेत्र से विजयी हुए थे। वहीं, 2015 विधानसभा चुनाव में उन्हें दो सीटें मिली थीं, मगर उन्होंने एनडीए से नाता तोड़ इस बार महागठबंधन का हिस्सा बनकर जब लोकसभा चुनाव लड़ा तो एक भी सीट नहीं जीत पाए। रालोसपा को अधिक सीटें नहीं मिलने के कारण ही उन्होंने एनडीए से नाता तोड़ा था। इस बार कुशवाहा खुद भी चुनाव हार गए हैं।