तीसरे चरण में बिहार में 60% हुई वोटिंग, 82 प्रत्‍याशियों की किस्‍मत EVM में कैद

NEW DELHI: लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण की वोटिंग बिहार में खत्‍म हो गई। तीसरे चरण में बिहार के पांच लोकसभा क्षेत्रों झंझारपुर, सुपौल, अररिया, मधेपुरा व खगड़िया में मंगलवार को वोटिंग हुई। इसमें लगभग 60 परसेंट मतदान हुआ। इसके साथ ही तीसरे चरण में कुल 82 उम्‍मीदवारों की किस्‍मत इवीएम में कैद हो गई। इनमें पप्‍पू यादव, शरद यादव, रंजीत रंजन, दिनेशचंद्र यादव, मुकेश सहनी आदि प्रमुख रूप से शामिल हैं। कुछ बूथों पर इवीएम में गड़बड़ी भी आई, जिसे तुरंत ठीक कर लिया गया। वहीं एक-दो जगहों पर हंगामा भी हुआ। प्रशासन की सतर्कता से कोई बड़ी घटना नहीं हुई।

पांच लोकसभा सीटों में सबसे ज्‍यादा वोटिंग सुपौल व अररिया में हुई। सुपौल में 62.80 परसेंट व अररिया में 62.34 परसेंट वोटरों ने मतदान किया। इसी तरह तीसरे स्‍थान पर 59.12 परसेंट वोटिंग के साथ मधेपुरा रहा। वहीं खगडि़या में 58.83, जबकि झंझारपुर में 56.92 लोगों ने वोट डाले। इस तरह तीसरे चरण में सबसे कम वोटिंग झंझारपुर में हुई।

सुबह सात बजे से ही लोग वोट देने के लिए घरों से निकलने लगे। बूथों पर वोटरों की लंबी-लंबी कतारें लग गईं। कतारों में महिलाओं की संख्‍या में काफी रही। निर्वाचन आयोग ने शांतिपूर्वक मतदान के लिए संतोष जताया है। तीसरे चरण में 82 प्रत्याशियों की किस्मत वोटिंग खत्‍म होने के साथ ही इवीएम में कैद हो गई। इनमें 77 पुरुष और पांच महिला प्रत्याशी हैं। तीसरे चरण में झंझारपुर में 17, सुपौल में 20, खगडिय़ा में 20, अररिया में 12 और मधेपुरा में 13 प्रत्याशी किस्‍मत आजमा रहे थे। अब इन लोगों की किस्‍मत के फैसले की जानकारी 23 मई को काउंटिंग के बाद मिलेगी।

निर्वाचन आयोग के अनुसार तीसरे चरण में पुरुष मतदाताओं की संख्या 46.55 लाख और महिला मतदाताओं की 42.44 लाख थी। मतदातााओं में 252 थर्ड जेंडर के लोग भी शामिल थे। इसमें 60 परसेंट मतदाताओं ने मतदान किया। निर्वाचन आयोग के अनुसार 162 बूथों पर वेबकास्टिंग हुई। वहीं करीब छह हजार कर्मियों मतदान संपन्न कराने में अहम भूमिका निभाई। तीसरे चरण के लिए कुल 9,076 मतदान केंद्र बनाए गए थे। वहीं आयोग के अनुसार आज के मतदान में कुल 46 शिकायतें मिली हैं। खगड़िया में सर्वाधिक 35 लोग गिरफ्तार किये गये हैं।