महान गणितज्ञ वशिष्ठ बाबू की याद में रोया युवक, रेत पर उकेरी शानदार तस्वीर

PATNA: देश का नाम विश्व में रोशन करने वाले बिहार के महान गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह का गुरूवार सुबह निधन हो गया। शुक्रवार को वशिष्ठ नारायण सिंह का उनके पैतृक गांव में अंतिम संस्कार किया गया। वहीँ अब वशिष्ठ नारायण सिंह को याद कर लोग भावुक हो रहे हैं। एक युवक ने उनकी याद में रेत पर शानदार तस्वीर बनाई है।

पूर्वी चंपारण का प्रसिद्ध सैंड आर्टिस्ट मधुरेन्द्र कुमार ने वशिष्ठ बाबू की याद में रेत पर शानदार तस्वीर उकेरी है। मधुरेन्द्र कुमार ने उनके निधन पर दुःख व्यक्त किया वहीँ उन्होंने कहा कि इतने महान व्यक्ति के निधन के बाद अस्पताल प्रशासन की हरकत बहुत ही निंदनीय है। इस पर मधुरेन्द्र कुमार भावुक हो गए। वहीँ मधुरेन्द्र कुमार ने बाद में रेत पर वशिष्ठ नारायण सिंह की शानदार तस्वीर उकेरी।

मधुरेन्द्र कुमार ने 5 घंटों की कड़ी मेहनत के बाद विश्वविख्यात गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह की रेत पर आकृति उकेरी। इस कलाकृति के माध्यम से मधुरेंद्र के साथ-साथ स्कूल परिसर में मौजूद कई लोगों ने भावपूर्ण अंदाज में दिवंगत वशिष्ठ बाबू को श्रद्धांजलि दी। मधुरेन्द्र ने कहा कि वशिष्ठ बाबू के निधन से देश को अपूरणीय क्षति हुई है।

बता दें वशिष्ठ नारायण सिंह का जन्म 2 अप्रैल 1946 को हुआ। उन्होंनें 1958 में बिहार मैट्रिक बोर्ड की परीक्षा में सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया। हायर सेकेंड्री की परीक्षा में भी उन्हें सर्वोच्च स्थान मिला। पटना विश्वविद्यायल ने इनके लिए अपना कानून तक बदल दिया और इन्हें सीधे ऊपरी कक्षा में दाखिला दिया।