सारण हमारे परिवार की पुश्तैनी सीट है, वहां से माँ लड़ेगी या मैं, कोई तीसरा नहीं – तेज प्रताप

PATNA: लालू यादव की पार्टी और परिवार में घमासान ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा है। बड़े बेटे तेजप्रताप (Tejpratap Yadav) ने अब खुली जंग का ऐलान कर दिया है। पहले तो उन्होंने पार्टी से अलग हो कर लालू -राबड़ी मोर्चा बनाने का ऐलान किया और फिर उन्होंने सारण सीट पर अपने ससुर चन्द्रिका राय की उम्मीदवारी का भी विरोध कर दिया।  तेजप्रताप ने कहा कि सारण उनके परिवार की पारंपरिक सीट है।  इस सीट से या तो माँ राबड़ी को लड़ना चाहिए या खुद वो (तेजप्रताप) लड़ेंगे। 

पटना में एक प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कहा कि जिस तरह अमेठी और रायबरेली कांग्रेस की पारंपरिक सीट है वैसे ही सारण की सीट भी हमारे परिवार की पुश्तैनी सीट है। उन्होंने अपनी माँ राबड़ी देवी से चुनाव लड़ने का अनुरोध करते हुए कहा कि या तो माँ चुनाव लड़ें या फिर वो खुद चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने ये भी कहा है कि माँ राबड़ी, बहन मीसा और पिता लालू यादव भी उनके साथ है। उन्होंने राजद के वरिष्ठ नेताओं पर आरोप लगाया कि वो कार्यकर्ताओं की अनदेखी कर रहे हैं और उनकी बात नहीं सुन रहे हैं। उन्होंने कहा कि निष्ठावान कार्यकर्ताओं को नज़रअंदाज किया जा रहा है।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

लालू-राबड़ी मोर्चा बनायेंगे तेजप्रताप : तेज प्रताप यादव ने एलान किया है कि वे नया राजनीतिक मोर्चा बनाएंगे। इसका नाम ‘लालू-राबड़ी मोर्चा’ होगा। साथ ही अपनी पार्टी और परिवार से नाराज चल रहे तेज प्रताप ने कहा है कि अगर उनकी बात नहीं मानी गई तो वे कोई भी बड़ा कदम उठा सकते हैं। राबड़ी देवी ने तेज प्रताप से फोन पर कई बार बात की है, लेकिन तेज प्रताप अपनी जिद पर अड़े हुए हैं। राजद नेता शिवानंद तिवारी ने तो खुलकर कह दिया है कि तेज प्रताप की जिद से जगहंसाई हो रही है और इसका असर आने वाले चुनाव पर भी पड़ेगा।