कैमरा देखकर सुशील मोदी ऐसे भागते हैं जैसे लाल कपड़ा देखकर सांड- शिवानंद तिवारी

PATNA: राष्ट्रीय जनता दल के उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर टिप्पणी करते हुए कहा कि कैमरा और माइक देखते ही उनके मुंह में दही जम जाता है। जब भी उनसे चमकी बुखार पर सवाल पूछने की कोशिश की जाती है तो चुप्पी साध लेते हैं और मीडिया वालों से दूरियां बनाने लगते हैं। उन्होंने उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के बारे में आपत्तिजनक बयान देते हुए कहा कि जैसे लाल कपड़ा देखकर सांड भागता है वैसे ही कैमरा देखकर सुशील मोदी भागते हैं।

शिवानंद तिवारी

शिवानंद तिवारी ने चमकी बुखार की अनदेखी करने वाली सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि इन गरीब बच्चों की मौ’त का शाप लगेगा। उन्होंने यह भी कहा राजद 28 जून से शुरु होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव में एईएस का मुद्दा जोर से उठायेगी। वर्तमान सरकार को कुछ लाज-शर्म तो हैं नहीं, इसलिए म’र रहे बच्चों के बारे में बोलते हैं कि इलाज की मुकम्मल व्यवस्था की गयी है जबकि प्रतिदिन चमकी बुखार से बच्चों की मौ’त हो रही है। इतना ही नहीं, अब 170 से ज्यादा बच्चों की मौ’त चमकी बुखार और सरकार की लापारवाही के कारण हो चुकी है।

सरकारी लापारवाही के कारण अबतक 170 बच्चों की मौ’त

गौरतलब है कि पिछले 20 दिनों में मुजफ्फरपुर के इलाकों लगभग 170 से ज्यादा बच्चों की मौ’त हो चुकी है। इस बीमारी के बारे में अभी तक वास्तविक कारणों का पता नहीं चल पाया है। कोई कहता है कि यह बीमारी लीची खाने से फैल रही है तो कोई कहता है कुपोषण के कारण। चमकी बुखार से होने वाली मौ’तों के वास्तविक कारणों को पता लगाने के लिए तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 2014 में ही घोषणा की थी कि बिहार के मुजफ्फरपुर में एक रिसर्च सेंटर बनाया जायेगा और उसी बात को 2019 में 170 बच्चों की मौ’त के बाद दोहरा रहे हैं। सरकारी अनदेखी के कारण लोगों ने विरोध-प्रदर्शन भी किया लेकिन कोई विशेष फायदा नहीं दिखा। इतना ही नहीं, जब उनसे चमकी बुखार पर सवाल किया जाता है तो बातों को बहला दिया जाता है।