झारखंड में कुछ ईसाई परिवारों ने मुखिया पर गाँव छोड़ने की धमकी देने का लगाया आरोप

RANCHI : झारखंड में  8 ईसाई परिवारों ने आरोप लगाया है कि ईसाई परिवारों को पश्चिमी सिंहभूम के मझगांव थाना क्षेत्र में गाँव छोड़ने को कहा गया है। जब इन लोगों ने गाँव नहीं छोड़ा तो इनके साथ मा’रपीट की गई। इस संबंध में इन 8 ईसाई परिवारों ने बीते सोमवार को मंझगांव थाने में लिखित शिकायत दर्ज कराई है।

पी’ड़ित ईसाई परिवार ने पु’लिस से अपनी सुरक्षा और न्याय दिलाने की मांग की है। साथ ही पी’ड़ित परिवार ने इस मामले में गांव की मुखिया को आरोपी बनाया है। शिकायत में इन परिवारों ने बताया है कि बीते 14 जुलाई को पंचायत की मुखिया एलिन पाट पिंगुवा और मुंडा रुस्तम पिंगुवा नामक एक व्यक्ति के नेतृत्व में दर्जनभर लोग उनके घर पहुंचे थे और गाँव न छोड़ने की स्थिति में जान से मरने की ढकी दी थी।

घर में घुसकर की तो’ड़फोड़ करने का लगाया आरोप-

सभी पीड़ित परिवारों ने अपनी शिकायत में यह ज़िक्र किया है कि कुछ ग्रामीणों ने उनके घर में घुसकर मारपीट और तोड़ फोड़ की है। उन्होंने कहा कि घर में घुसकर धमकाया गया और धार्मिक ग्रंथों की जलने की कोशिश की गयी। अब पुलिस को ये जांच करनी है कि इन लोगों के आरोपों में कितनी सच्चाई है। वहीं इस मामले में गाँव मुखिया एलिन पाट पिंगुवा ने कहा कि उनके उपर लगाए गए सभी आरोप गलत हैं। घटना के दिन वह चाईबासा में थीं। साथ ही गांव के मुंडा रुस्तम पिंगुवा ने बताया कि बाहर से मिशनरी के लोग आते हैं और आदिवासियों को ईसाई बनने के लिए प्रलोभन देते हैं। मुंडा ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को ख़ारिज किया है।