लिट्टी-चोखा बेचने वाले का बेटा बना डीएसपी, लोग कर रहे गरीब की मेहनत को सलाम

PATNA : कहते हैं कि मेहनत करने वाले को गरीबी कभी भी परेशान नहीं कर सकती। इस कहावत को छपरा के रहने वाले कृष्‍ण कुमार ने सच साबित कर दिया। लिट्टी-चोखा बेचकर माता-पिता ने जिस अरमान से अपने बेटे को पढ़ाया-लिखाया, उसे बेटे ने पूरा कर दिखाया।

आपको बता दें कि छपरा के लाल कृष्‍ण कुमार ने अपने गांव-शहर का नाम रोशन किया। वह बीपीएससी में सफलता दर्ज कर डीएसपी बन गए। उनकी इस सफलता पर पूरा गांव गर्व कर रहा है।

कृष्‍ण कुमार के पिता मदन प्रसाद गुप्ता लिट्टी-चोखा बेचकर परिवार पालते हैं। गरीबी की जिंदगी में भी उन्‍होंने अपने बेटे कृष्‍ण कुमार की पढ़ाई-लिखाई में कोई कमी नहीं की। कृष्‍ण कुमार ने भी मेहनत से कभी जी नहीं चुराया। इसका परिणाम सुखद रहा। बेटे ने बीपीएससी की 63 वीं परीक्षा में 86वीं रैंक लाकर अपने माता-पिता के सपनों को पूरा किया। वह डीएसपी बन गए। सफलता मिलने पर कृष्ण कुमार ने कहा कि पिछले साल 60-62 वीं बीपीएससी परीक्षा में राजस्व अधिकारी के रूप में मेरा चयन हुआ था। नौकरी ज्‍वाइन करने के बाद परिवार को आर्थिक रूप से मजबूती मिली। राजस्‍व अधिकारी से हम संतुष्‍ट नहीं थे। इसलिए फिर से रैंक सुधारने के लिए एग्‍जाम दिया और इस बार मैं डीएसपी पद पर चयनित हुआ हूं। उन्होंने कहा कि अब मैं आइएएस बनने के लिए अब यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करूंगा।