शेल्टर होम केस में सुप्रीम कोर्ट ने TISS को दिया आदेश,जल्द कराएं बच्चियों का पुनर्वास

PATNA : आज मुजफ्फरपुर शेल्टर केस में सुप्रीम कोर्ट में महत्वपूर्ण सुनवाई हुई, इसमें अदालत ने टाटा इंस्टीच्यूट ऑफ सोशल साइंसेज(TISS) को आदेश दिया है कि वो बालिका गृह में या’तना सहने वाली सभी 44 लड़कियों के पुनर्वास का प्लान तैयार करे। सर्वोच्च अदालत ने चार हफ्ते में लड़कियों के पुनर्वास की रिपोर्ट दाखिल करने का भी आदेश दिया।

 

उच्चतम न्यायालय ने अपने आदेश में कहा है कि सभी लड़कियों के लिए अलग-अलग पुनर्वास का प्लान बनाया जाए और इस मामले की सुनवाई अब चार हफ्ते बाद होगी। बता दें कि TISS वही संस्था है जिसने इस कां’ड का पर्दा’फाश किया था। टिस की जानकारी मिलने के बाद पूरे बिहार सहित देश में भी बालिका गृह मामले को लेकर राज्य सरकार की किरकिरी हुई थी।

सीबीआई को जल्द रिपोर्ट सौंपने का निर्देश-

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई से प्रोग्रेस रिपोर्ट भी तलब किया है। कोर्ट ने कहा कि पीड़ितों के पुनर्वास के लिए अबतक जो कार्रवाई की गई है उसकी जानकारी कोर्ट को दी जाए। मामले की अगली सुनवाई 4 हफ्ते बाद होगी। आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले में एक बार फिर से सख्त नजर आ रहा है।

TISS की जारी रिपोर्ट में कहा गया था कि बालिका गृह में बच्चियों को शारीरिक और मानसिक प्रता’ड़नाएं दी जाती थीं। इसका खुलासा होते ही बिहार में ह’ड़कंप मच गया था। मामला राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे तमाम शेल्टर होम की जांच का था , जिसकी जानकारी सरकार को दी गई थी, लेकिन कोई कार्रवाई नही की गई। इस मामले में कई राजनेताओं के भी नाम शामिल हैं। इस मामले में बिहार सरकार की मंत्री मंजू वर्मा को इस्तीफा तक देना पड़ा था क्योंकि उनके पति का भी आरोपी के रूप में नाम सामने आया था।