26 दिसंबर को लगेगा सूर्यग्रहण, कल लगेगा सूतक, ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं ध्यान रखें ये बातें

Patna : साल 2019 का आखिरी सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर को लगेगा। इसके लिए 25 दिसंबर से सूतक लग जाएगा। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, ग्रहण के दौरान किसी प्रकार के शुभ कार्य की शुरुआत नहीं की जाती। ग्रहण लगने से पहले और बाद तक के सयम को सूतक काल माना जाता है। ग्रहण और ग्रहण सूतके दौरान गर्भवती महिलाओं को खास सावधानी वर्तने की सलाह दी जाती है। यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई देगा और इसका विभिन्न राशि के लोगों व प्रकृति पर असर भी पड़ेगा।

क्या है ग्रहण सूतक काल ?
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ग्रणह शुरू होने के 12 घंटे पहले और ग्रहण पूरा होने के 12 घंटे के बाद तक का समय ग्रहण सूतक काल कहलाता है। इस बार सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर 2019 को है, इसलिए ग्रहण सूतक काल 25 दिसंबर को शुरू हो जाएगा।

ग्रहण तिथि और समय
बुधवार की रात 8:17 बजे से सूतक लग जाएंगे। ग्रहण समाप्त होते ही सूतक खत्म होंगे। ग्रहण के दिन मूल नक्षत्र में चार ग्रह रहेंगे। वहीं, धनु राशि में सूर्य, चंद्रमा, बुध, बृहस्पति, शनि और केतु रहेंगे। इन छह ग्रहों पर राहु की पूर्ण दृष्टि भी रहेगी। इनमें दो ग्रह यानी बुध और गुरु अस्त रहेंगे। कर्क, तुला, कुंभ और मीन चार राशि वालों पर ग्रहण शुभ रहेगा।

इस ग्रहण के बाद अगले साल के शुरू में जनवरी में चंद्र ग्रहण लगेगा। बताया जा रहा है कि यह सूर्य ग्रहण 296 साल बाद लग रहा है। यह अंगूठी जैसा सूर्य ग्रहण होगा जिसमें सूर्य एक आग की अंगूठी की तरह लगेगा। वैदिक ज्योतिष संस्थान के अध्यक्ष स्वामी पूर्णानंद पुरी महाराज ने कहा कि ऐसा दुर्लभ सूर्यग्रहण 296 साल पहले सात जनवरी 1723 को हुआ था। सूर्य ग्रहण वलयाकार होगा। चन्द्रमा की छाया सूर्य का 97 प्रतिशत भाग ढकेगी। सूर्य ग्रहण सुबह 8:17 बजे शुरू होगा। 26 दिसंबर को पड़ने वाले सूर्य ग्रहण के मौके पर ज्यादातर मंदिरों के कपाट बंद रहेंगे। ग्रहण समाप्त होने के बाद मंदिरों के कपाट खुलेंगे और दोबारा से पूजा अर्चना शुरू होगी।