कांग्रेस-राजद अपना नेतृत्व नहीं, विचार बदलें, जनता को आत्म’घाती विचार मंजूर नहीं- सुशील मोदी

PATNA: बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुुए कहा है कि 2019 का लोकसभा चुनाव दो विचारधाराओं की लड़ाई थी। भारतीय जनता पार्टी जहां राष्ट्रवाद के मुद्दे पर चुनाव लड़ रही थी। वहीं कांग्रेस गैर-राष्ट्रवादी मुद्दे पर, इसलिए जनता ने उनलोगों को वोट देकर खुद अपनी इच्छा बता दी।

क्या कहा सुशील मोदी ने-

सुशील मोदी का कहना है कि ये वही कांग्रेस है, जो पाकिस्तान के आंतकी मसूद अजहर को आदर देकर मसूद जी कहने लगी। इतना ही नहीं आंतकवाद के मुद्दे पर चुप्पी साध लेती है। कश्मीर से सेना को वापस बुलाने की बात करती है और देशद्रोह जैसे कानून को खत्म करने जैसी आत्मघाती विचार रखती है, जो देश की जनता को कदापि मंजूर नहीं है। उन्होंने राहुल गांधी के इस्तीफे और तेजस्वी के नेतृत्व पर उठते सवाल को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि कांग्रेस और राजद को अपना नेता बदलने के बजाय अपना विचार बदलना चाहिए। जनता देशविरोधी विचार को कभी स्वीकार नहीं करेगी।

कैसा रहा 2019 का लोकसभा चुनाव कांग्रेस और राजद के लिए-

गौरतलब है कि कांग्रेस को लोकसभा चुनाव 2019 में कुल 543 सीटों में सिर्फ 52 सीटें ही हाथ लगी। इस तरह वो विपक्ष की अधिकारिक भूमिका निभाने लायक नहीं रही क्योंक अधिकारिक रुप से विपक्ष की भूमिका निभाने के लिए 55 सीटों की आवश्यकता पड़ती है। इस तरह की करारी हार के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद से अपनी इस्तीफे की पेशकश की। हालांकि पार्टी ने उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं किया।

इसी तरह बिहार में राजद कुल 40 लोकसभा सीटों में से एक भी सीट नहीं जीत पायी, जबकि राजद के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ था। इसी को आधार बनाकर उनके पार्टी और गठबंधन के नेता, उनपर नेतृत्व छोड़ने के लिए दबाव डाल लगे। आपको बता दें कि राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव चारा-घोटाले के मामले में जेल चले जाने के बाद तेजस्वी के हाथों में राजद की कमान सौंप गये।