जानिए बिहार सरकार के इस बजट की 10 बड़ी बातें, जिनका सीधा असर होगा आप पर

Patna: विधानसभा में बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राज्य का बजट पेश किया। जहां बिहार सरकार ने साल 2019-20 के लिए 2 लाख करोड़ रुपये का बजट बनाया है। इस दौरान सुशील कुमार मोदी ने बताया कि इस बार बजट के आकार में 2004-05 की तुलना में 8 गुना वृद्धि की गई है।

तो वहीं मोदी ने सदन में बताया कि वर्ष 2005-06 में एनडीए की सरकार बनने से पहले योजना आकार सिर्फ 4379 करोड़ रुपए था। सदन में बजट पेश करने के दौरान मोदी ने सरकार की उपलब्धियां गिनाई तो नई घोषणाएं भी कीं। सरकार ने इस बार के बजट में सबसे ज्यादा पैसै शिक्षा में खर्च करने का निर्णय लिया है। इस मद में सरकार 34 हजार 798 करोड़ रुपये खर्च करने की घोषणा की है। सरकार ने साइकिल योजना के तहत दी जाने वाली राशि को 2500 से बढ़ाकर 3000 रुपये किया है, तो वहीं पोशाक राशि में भी 500 रुपये का इजाफा करते हुए इसे 1000 रुपये से 1500 रुपये करने का फैसला लिया है। इन दोनों योजनाओं में दी जाने वाली राशि के अलावा अब सेनेटरी नैपकिन के लिए भी छात्राओं को 300 रुपये मिलेंगे, जो कि पहले 150 रुपये होते थे।

QUAINT MEDIA

साथ ही उन्होंने घोषणा की कि अगले दो साल में बिहार के हर घर में बिजली की प्री पेड मीटर लगा दिया जाएगा। 34 हजार 798 करोड़ रुपये शिक्षा पर, लगभग 18 हजार करोड़ रुपये सड़कों पर, ग्रामीण विकास पर 15 हजार 669 करोड़ खर्च, गृह विभाग पर लगभग 11 हजार करोड़ खर्च किए जाएंगे। आपको बता दें कि बिहार सरकार के इस बजट की 10 बड़ी बातें है, बिहार का पूंजीगत व्यय बढ़ा है, बिहार में महंगाई दर में गिरावट, राजस्व प्राप्ति में बिहार आगे, शिक्षा में सबसे ज्यादा खर्च, बिहार घाटे में नहीं इसलिए कोई अनुदान नहीं मिला, वित्तीय प्रबंधन से बेहतर हुआ है बिहार का प्रदर्शन, ग्रोथ रेट में बिहार सबसे आगे, ग्रामीण क्षेत्र के विकास में खर्च करने में बिहार दूसरे नंबर पर, वित्तीय प्रबंधन से बेहतर हुआ है बिहार, बिहार सबसे ज्यादा रोजगार पैदा करने वाला राज्य है।

About Vishal Jha

I am Vishal Jha. I specialize in creative content writing. I enjoy reading books, newspaper, blogs etc. because it strengthened my knowledge and improve my presentation abilities

View all posts by Vishal Jha →