अयोध्‍या मामले में तेजस्वी ने सभी से शांति व्यवस्था बरकरार रखने की अपील की

PATNA : अयोध्‍या मामले में सर्वोच्च अदालत ने अपना फैसला सुना दिया है। विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने निर्णय का स्वागत किया है और अपने ट्वीट में लिखा कि हम सर्वोच्च न्यायालय के फ़ैसले का सहृदय सम्मान करते हैं। देश का प्रत्येक मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, चर्च हमारा ही है।

तेजस्वी यादव ने कहा कि कहीं कुछ भी और कोई भी हमारा पराया नहीं था, ना है और ना ही रहेगा। सब हमारे थे, हैं और रहेंगे।‪ अब राजनीतिक दलों व सरकारों का ध्यान अच्छे स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय और अस्पताल बनाने, किसानों का कल्याण, ग़रीबों का उत्थान एवं युवाओं को रोज़गार दिलाने पर होना चाहिए।‬

उन्होंने कहा कि मैं सभी बिहारवासियों से करजोड़ प्रार्थना करता हूं कि सर्वोच्च न्यायालय का जो भी फैसला आये हम उसे स्वीकार करें और किसी भी कीमत पर सामाजिक सौहार्द को बिखरने ना दें। उल्लेखनीय है कि बिहार में भी इस फैसले को लेकर कानून-व्यवस्था चाक-चौबंद कर दी गई है। जगह-जगह पुलिस बल की तैनाती की गई है। राजधानी पटना सहित राज्य के सभी जिलों में सुरक्षा-व्यवस्था बढ़ा दी गई है।

चौक-चौहारे पर हर आने-जाने वाले की चेकिंग की जा रही है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने 45 मिनट तक फैसला पढ़ा और कहा कि मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाया जाए और इसकी योजना 3 महीने में तैयार की जाए। कोर्ट ने 2.77 एकड़ की विवादित जमीन रामलला विराजमान को देने का आदेश दिया। गोगोई ने कहा कि मीर बाकी ने बाबरी मस्जिद बनवाई थी, लेकिन 1949 में आधी रात में राम की प्रतिमा रखी गई थी। मस्जिद कब बनाई गई इसका वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं है।