तेजस्वी हैं महागठबंधन के हा’र का कारण, कांग्रेस को छोड़ देना चाहिए राजद का दामन-विधायक शकील खान

PATNA: कांग्रेस MLA शकील अहमद खान ने कहा है कि बिहार में लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान महागठबंधन का नेतृत्व राजद नेता तेजस्वी यादव कर रहे थे। उनपर बहुत बड़ी-बड़ी जिम्मे’दारी थी, जिसे वे सही तरीकों से नहीं निभाया।  इतना ही नहीं वे महागठबंधन के तमाम पार्टियों और नेताओं के बीच आपसी तालमेल भी नहीं बना पायें। उन्होंने तेेजस्वी यादव को लोकसभा चुनाव में महागठबंधन की हा’र के लिए जिम्मे’वार भी बताया। 

शकील अहमद खान क्या बोले –

शकील खान ने कहा कि इस चुनाव के दौरान तेजस्वी यादव, जान-बूझकर कई सारी गल’तियां की है। ऐसी गलति’यां, जिससे जनता में ग’लत संदेश जाता है, जैसे- बिहार में कई जगहों पर महागठबंधन के दो-दो उम्मीदवार को खड़ा करने के लिए ताना’तनी हो गयी।इस तरह की गल’ती सिर्फ-व-सिर्फ तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव की आपसी वि’वाद और मत’भेद के कारण हुई है, जिसके कारण महागठबंधन के सभी पार्टियों को काफी नुक’सान हुआ है।

हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि अगर कांग्रेस से भी कोई ग’लती हुई है, तो उसकी भी समीक्षा होनी चाहिए। शकील खान ना सिर्फ तेजस्वी को हार का जिम्मे’वार ठहराया बल्कि यह भी कह दिया कि कांग्रेस पार्टी को महागठबंधन से बाहर हो जाना चाहिए और अकेले खुद के दम पर बिहार में चुनाव लड़’ना चाहिए। आपको बता दें कि शकील खान विधानसभा के सदस्य हैं और कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव हैं।

लोकसभा चुनाव 2019 का नतीजा-

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव 2019 में 40 सीटों में एनडीए ने 39 सीटों पर जीत हासिल की। महागठबंधन को सिर्फ किशनगंज सीट पर जीत मिली, वो भी कांग्रेस के खाते में चली गयी। राजद को एक भी सीट नहीं मिली। इस कारण राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने कुछ दिनों तक चिं’ता के कारण खाना-पीना छोड़ दिये थे। यहां तक की जीतन राम मांझी की पार्टी हम और मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी भी शून्य पर ही आ’उट हो गयी थी। इस तरह करारी हार के बाद वि’पक्षी पार्टियां सहित महागठबंधन के नेताओं ने भी तेजस्वी के नेतृत्व पर प्रश्न’चिन्ह लगाना शुरु कर दी है।