पप्पू यादव और मदन मोहन झा ने शिक्षक बहाली के लिए हो रहे आंदोलन और उसकी मांग को बताया जायज

PATNA: पूर्व सांसद पप्पू यादव और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने टीईटी और सीटीईटी परीक्षा उत्तीर्ण शिक्षक अभ्यर्थियों की मांग और आंदोलन को जायज बताया। दोनों नेता शिक्षक अभ्यर्थियों से मिलने पहुंचे और उन अभ्यर्थियों की सभा को संबोधित किया। इतना ही नहीं, मदन मोहन झा ने कहा कि बिहार में लगभग 45 हजार टीईटी और सीटीईटी परीक्षा उत्तीर्ण शिक्षक अभ्यर्थी है, जो शिक्षक बहाली के लिए आंदोलन कर रहे हैं। वहीं सरकार के पास उससे ज्यादा शिक्षक पद रिक्त है, इसलिए सरकार को जल्द-से-जल्द इन सीटों पर बहाली निकालनी चाहिए। अगर सरकार किसी को पढ़ा-लिखाकर डिग्री देती है तो नौकरी भी दे। भले इसके लिए पद क्रिएट करना ही क्यों ना पड़े?

Madan mohan jha and Pappu yadav

आपको बता दें कि पिछले कई दिनों से टीईटी और सीटीईटी पास शिक्षक अभ्यर्थी लगातार सरकार से गुहार लगा रहे हैं कि वे शिक्षकों के रिक्त पड़े सीटों की बहाली निकाले ताकि टीईटी और सीटीईटी पास शिक्षक अभ्यर्थियों को बेरोजगार होकर दर-दर की ठोकरे नहीं खाना पड़े। बिहार में प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों में लगभग 2 लाख से ज्यादा शिक्षकों की सीट खाली है। इसी सीट को भरने के लिए शिक्षक अभ्यर्थी धरना देने जा रहे थे, लेकिन पु’लिस ने पुरूष अभ्यर्थियों के साथ-साथ महिला अभ्यर्थियों को भी बड़ी बेह’रमी से पीटा। कई घा’यल अभ्यर्थियों को पटना के पीएमसीएच हॉस्पीटल में भर्ती किया गया है।

सुशील कुमार मोदी ने भी नहीं सुनी फरियाद-

जब ये शिक्षक अभ्यर्थी उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के समक्ष अपनी समस्या लेकर पहुंचे तो उन्होंने इसबात पर अमल करने से इंकार कर दिया और कहा कि वक्त आने पर यह फैसला सरकार करेगी कि बहाली निकालना है या नहीं, लेकिन इस बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है।