झारखंड कांग्रेस में कलह बढ़ी, अजय कुमार के खिलाफ प्रदेश अध्यक्ष हटाओ-कांग्रेस बचाओ के लगे नारे

RANCHI : लोकसभा चुनाव हारने के बाद से कांग्रेस में लगातार आपसी कलह मची हुई है। कांग्रेस में दो गुट बन गए हैं जिनमे से एक प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय कुमार का समर्थन करता है तो दूसरा गुट उनका विरोध कर रहा है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता विधानसभा चुनाव नये प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में लड़ना चाहते हैं जबकि वर्तमान अध्यक्ष डॉ अजय कुमार इस्तीफा नहीं दे रहे हैं।

आपसी कलह में डूबी प्रदेश कांग्रेस के अलग-अलग गुट प्रदेश अध्यक्ष हटाओ और प्रदेश बचाओ के अभियान में जुटे हुए हैं। कई नेता नारे लगा रहे हैं और शीर्ष नेतृत्व से अजय कुमार को हटाने की मांग कर रहे हैं। वे चाहते हैं कि विधानसभा चुनाव वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष के कार्यकाल में न हाे, बल्कि किसी नए व्यक्ति काे इसकी जिम्मेदारी मिले। पूर्व मंत्री केएन झा ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष के चयन की प्रक्रिया ही गलत है। पार्टी काे इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री डाॅ. रामेशवर उरांव ने कहा कि डाॅ. अजय कुमार की शिकायत पूरे प्रदेश में है। सभी कार्यकर्ता उनसे नाराज़ हैं।

लोकसभा चुनाव में पार्टी की हुई थी शर्मनाक हार –

बता दें कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस सूबे में सात सीटों पर चुनाव लड़ी थी । जिसमे कांग्रेस मात्र सिंहभूम की सीट ही जीत पाई थी। पहले भी पार्टी के कई अन्य नेता डॉ अजय कुमार को भाजपा का एजेंट बताकर उन्हें हटाने की मांग कर चुके हैं। इस करारी हार के लिए पार्टी का एक धड़ा डॉ अजय कुमार के नेतृत्व को जिम्मेवार बता रहा है और उन्हें प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाना चाहता है। वैसे अजय कुमार इस हार की जिम्मेदारी लेते हुए आलाकमान को पहले ही अपना इस्तीफा सौंप चुके हैं। हालांकि अबतक उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं हुआ है। प्रदीप बलमुचू ने कहा कि लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद प्रदेश में कांग्रेस कार्यकर्ता हतोत्साहित हैं। इसलिए विधानसभा चुनाव को देखते हुए राज्य में नेतृत्व परिवर्तन होना चाहिए।