इस बार मकर संक्रांति 14 की जगह 15 जनवरी को, रंग-बिरंगी पतंगों की बढ़ गई है मांग

PATNA : पर्व, त्योहार, सभ्यता व संस्कृति के कारण पूरे विश्व में भारत एक अलग पहचान है। यहां हर मौसम, हर राज्य व क्षेत्र में मनाये जाने वाले पर्व का विशेष महत्व है। इन दिनों पूरे भारतवर्ष में मकर संक्रांति त्योहार की तैयारी चल रही है। मकर संक्रांति को कई राज्यों में अलग-अलग नाम व तरीके से मनाया जाता है। लेकिन मिथिलांचल क्षेत्र में इसे मकर संक्रांति के नाम से मनाया जाता है। इस दिन जप,तप, दान, स्नान जैसे धार्मिक क्रियाकलापों का विशेष महत्व होता है। शास्त्रों के मुताबिक इस दिन भगवान सूर्य शनि राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करते हैं। मान्यता है कि इस दिन से सूर्य उत्तरायण होने लगता है। इसके बाद से गर्म मौसम की शुरुआत हो जाती है। सूर्य के उत्तरायण होने को शुभ मानते ही इस दिन से लोग गृह प्रवेश, मुंडन, जनेऊ, शादी व अन्य शुभ कार्य प्रारंभ कर देते हैं।

15 जनवरी को होने वाली मकर संक्रांति की तैयारी को लेकर बाजार में खरीददारी तेज हो गई है। मकर संक्रांति को लेकर बाजार में गुड़, तिल, मुरही व चुरा के साथ ही उरद दाल की कीमत में उछाल आ गई है। बाजार में गुड़ 50-60 रुपये किलो, सफेद तिल 180-190 रुपये किलो, मुरही 35- 40 रुपये किलो मिल रहे हैं। वहीं तिलकुट 250- 300 रुपये किलो व कुर्थी दाल 55-60 रुपए किलो की दर से बाजार में बिक रहे हैं। वहीं इस दिन पतंगबाजी करने को लेकर बच्चे व युवाओं के उत्साह को देखते हुए बाजार में रंग-बिरंगी पतंगों की मांग भी बढ़ गयी है।

makar sankranti
इस वर्ष 14 के बदले 15 जनवरी को होगी मकर संक्रांति : ज्योतिष विश्वनाथ झा का कहना है कि इस बार मलमास के कारण संक्रांति की तिथि में अंतर हो गई है। इस बार 14 के बदले 15 जनवरी को मकर संक्रांति मनाई जायेगी। रात्रि 12 बजे के बाद यदि संक्रमण होता है। मकर संक्रांति में गंगा स्नान का विशेष महत्व : कहा जाता है कि भागीरथ ने इसी दिन स्वर्ग से गंगा को धरती पर लाया था। पृथ्वी पर आने के बाद गंगा प्रयाग स्थित संगम स्थल में समाकर समुद्र में मिल गयी थी। मुताबिक इस दिन स्वर्ग से भगवान स्नान के लिए संगम तट पर आते हैं।

दान का भी है विशेष महत्व : मकर संक्रांति में चुरा, मुरही की लाई, तिल के लड्डू व खिचड़ी का विशेष महत्व है। वहीं इस दिन लोग तिल के लड्डू, गर्म कपड़े दानस्वरूप गरीबों को देते हैं। लोग सर्दी, जुकाम व कफ जैसी समस्या से परेशान रहते है।

The post इस बार मकर संक्रांति 14 की जगह 15 जनवरी को, रंग-बिरंगी पतंगों की बढ़ गई है मांग appeared first on Mai Bihari.