पु’लिस की लापारवाही से दुमका में तीन कांवरियों की मौ’त, सीएम रघुवरदास ने जताया दुख

RANCHI: झारखंड के दुमका में पु’लिस की ला’पारवाही के कारण तीन कांवरियों की मौ’त हो गयी। राज्य के मुख्यमंत्री रघुवरदास ने कांवरियों की मौ’त पर दुख व्यक्त किया। आपको बता दें यह हाद’सा इसलिए हुआ क्योंकि हाइवे पर स्पीड कंट्रोल के लिए ड्रम रखा हुआ था। गौरतलब है कि सावन का महीना चल रहा है। ऐसे समय में बाबा वैद्यनाथ के दर्शन के लिए कांवरियां देवघर जा रहे थे। जिला प्रशासन ने घायलों के इलाज के लिए निर्देश दिया और सरकार ने मृतक के परिजनों को एक एक लाख रुपये देने की घोषणा की।

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले रघुवरदास ने राजकीय श्रावणी मेले का उद्घाटन किया था। इसके साथ ही पूरे प्रदेश में काँवड़ यात्रायें भी चालू हो गयी हैं। भगवान शिव की भक्ति का पावन महीना सावन शुरू हो गया है। श्रावणी मेला सुल्तानगंज से लेकर बाबा वैद्यनाथ की नगरी देवघर तक लगता है। इस मेले की थीम ‘स्वच्छता और विनम्रता’ रखी गयी है।

कांवरिया
सुविधाओं का रखा गया है ख्याल

एक महीना तक चलने वाले श्रावणी मेले में रोजाना एक लाख से ज्यादा श्रद्धालु पहुंचते हैं। इसको देखते हुए जिला प्रशासन ने कई तैयारियां की हैं। कोठिया में 1500 बेड वाले टेंट सिटी का निर्माण कराया गया है। इसमें 300 टॉयलेट और 80 बाथरूम की व्यवस्था है। उद्घाटन के अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें कुम्भ मेले की तरह इसमें भी स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना होगा। मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीट सन्देश में कहा था कि आध्यात्म नगरी देवघर में श्रावणी मेला आरंभ हो रहा है। सभी देवतुल्य श्रद्धालुओं से आग्रह है कि वो द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक मनोकामना लिंग के दर्शन कर अपनी मनोकामना पूर्ण करें।

कांवरियों की सुरक्षा के पुलि’स तैनात

आपको बता दें कि सरकार ने सुरक्षा की पूरी व्यवस्था की है। इसके लिये पूरे मेलाक्षेत्र को 32 थानाक्षेत्रों में विभाजित किया गया है। मेले में लगभग 10 हजार पुलि’सकर्मियों को तैनात किया गया है। कांवरियों के लिए बड़ी संख्या में चिकित्सकों को भी लगाया गया है। पांच बाइक एबुलेंस की भी व्यवस्था की गयी है। मेला क्षेत्र में 24 घंटे बिजली रहेगी।