रौनित रॉय ने किया पिता का सपना पूरा, कड़ी मेहनत के दम पर हासिल किया दूसरा स्थान

PATNA: बिहार बोर्ड ने इस बार मात्र 29 दिनों के अंदर मैट्रिक का परीक्षा परिणाम घोषित कर एक नया रिकॉर्ड बना दिया है। इस बार मैट्रिक की परीक्षा में 13 लाख 20 हजार 36 परीक्षार्थी उतीर्ण हुए हैं। इस बार मैट्रिक परीक्षा में राज्य में दूसरे स्थान रौनित रॉय ने हासिल किया है। रौनित रॉय ने सीमित संसाधनों के चलते कड़ी मेहनत के दम पर अपने परिवार और जिले का नाम रोशन किया है।

रौनित रॉय ने परीक्षा में 483 अंक (96.6 प्रतिशत) प्राप्त किये हैं। रौनित के परिजन मूलरूप से नवादा जिले के रोह प्रखंड के सिउर गांव के रहने वाले हैं। लेकिन रौनित रॉय के पिता ने बच्चों की पढ़ाई के लिए गांव से शहर की ओर प्रस्थान कर लिया। रॉबिन राज ने सिमुलतला आवासीय विद्यालय से पढ़ाई की है। 

Quaint Media

बता दें कि रौनित रॉय के पिता एक शिक्षक हैं। रौनित के पिता ने बताया कि वह गांव छोड़कर इसी वजह से आए थे कि उनके बच्चों को अच्छी शिक्षा मिल सके। रौनित के पिता ने कहा कि उन्हें अपने बेटे पर पूरा भरोसा है कि वह उनकी आर्थिक तंगी को दूर करेगा। वहीँ रौनित की माँ ने कहा कि रौनित शुरू से ही अनुशासित और आज्ञाकारी है। वह सभी का सम्मान करता है। रौनित पढ़ाई भी पूरी लगन के साथ करता है। उन्हें पूरी उम्मीद है कि आगे भी रौनित इसी तरह अपनी जिंदगी में सफलता हासिल करता रहेगा।

वहीँ मीडिया से बात करते हुए रौनित रॉय ने बताया कि लक्ष्य को केंद्रित करके आगे बढ़ा जाए तो कठिन मंजिल को भी आसानी से पार किया जा सकता है। उन्होंने भविष्य को लेकर बात करते हुए कहा कि उनका सपना आगे चलकर वह यूपीएससी की परीक्षा पास कर अधिकारी बनना हैं।