छपरा हो कर दिल्ली जाने वाली कई ट्रेनों के रूट में बदलाव, 17 अप्रैल तक मोतिहारी हो कर जायेंगी ट्रेनें

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

PATNA :रेल यात्रियों के लिए एक आवश्यक खबर है। छपरा (chhapra) स्टेशन से होकर गुजरने वाली कई ट्रेनों का मार्ग 17 अप्रैल तक परिवर्तित किया गया है। मुजफ्फरपुर- हाजीपुर रेलखंड के कुढनी, गोरौल और भगवानपुर स्टेशनों पर इंटरलॉकिंग कार्य के चलते 17 अप्रैल तक आवागमन प्रभावित रहेगा। इस रूट से गुजरने वाली लम्बी दूरी की कई ट्रेनें अब वाया मोतिहारी-नरकटियागंज हो कर गुजरेंगी। छपरा से मुजफ्फरपुर की तरफ जाने वाली ट्रेनें हाजीपुर से शाहपुर पटोरी के रास्ते मज़फ्फरपुर तक जायेगी। 

समस्तीपुर -सीवान सवारी गाडी नंबर 55022 समस्तीपुर के बजाये हाजीपुर से चलेगी। दरभंगा – नई दिल्ली बिहार संपर्क क्रांति (12565) एक्सप्रेस का परिचालन 7 अप्रैल से 17 अप्रैल तक छपरा-हाजीपुर के बजाये वाया मोतिहारी – नरकटियागंज हो कर किया जाएगा। न्यू जलपाइगुड़ी से चलकर  छपरा-सीवान के रस्ते नई दिल्ली तक जाने वाली 12523 न्यू जलपाइगुड़ी- एक्सप्रेस का परिचालन 9, 13, व 16 अप्रैल को वाया मोतिहारी -नरकटियागंज-गोरखपुर  किया जाएगा। वापसी यात्रा में 12524 नई दिल्ली-न्यू जलपाइगुड़ी एक्सप्रेस 10 और 14 अप्रैल को छपरा- हाजीपुर- मुजफ्फरपुर के बदले  गोरखपुर-नरकटियागंज-मोतिहारी-मुजफ्फरपुर के रास्ते चलेगी।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

19602 न्यू जलपाइगुड़ी-उदयपुर एक्सप्रेस 15 अप्रैल को  मुजफ्फरपुर-हाजीपुर-छपरा रूट के बजाये गोरखपुर-नरकटियागंज-मोतिहारी होते हुए मुजफ्फरपुर के रास्ते न्यू जलपाईगुड़ी तक जायेगी।  न्यू जलपाइगुड़ी -अमृतसर एक्सप्रेस (12407) 10 व 17 अप्रैल को मुजफ्फरपुर-हाजीपुर-छपरा रूट के बदले मुजफ्फरपुर-मोतिहारी-गोरखपुर के रास्ते चलेगी।

जानकी एक्सप्रेस के चार बोगियों में लगी आग :जयनगर से शनिवार की सुबह चार बजकर 40 मिनट पर जानकी एक्सप्रेस ट्रेन 15284 कटिहार के लिए रवाना हुई। ट्रेन करीब अस्सी किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही थी। जयनगर से खुलने के बाद ही ट्रेन के चार बोगी के निचले हिस्से से आग की लपटें निकलने लगी। इस हादसे की जानकारी गार्ड, ड्राईवर और यात्रियों को भी नहीं हुई। खजौली स्टेशन पर एएसएम मनोज कुमार कि नज़र आग पर पड़ी और फिर उन्होंने इसकी सूचना अगले स्टेशन राजनगर को दी। ट्रेन ना तो खजौली में रूकती है और ना ही राजनगर में। सूचना के बाद आग पर काबू पाया जा सका और एक बड़ा हादसा टल गया।