पूर्व भाजपा नेता उदय सिंह ने थामा कांग्रेस का दामन, बन सकते हैं कांग्रेस उम्मीदवार

PATNA :  पूर्णिया से दो बार भाजपा के सांसद रह चुके उदय सिंह (Uday Singh) उर्फ़ पप्पू सिंह बुधवार को कांग्रेस में शामिल हो गए। इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा और अखिलेश प्रसाद सिंह जैसे कई कांग्रेसी नेता मौजूद थे। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम में मदन मोहन झा ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। उदय सिंह उर्फ़ पप्पू सिंह 2004 और 2009 में पूर्णिया से भाजपा के सांसद रह चुके हैं और 2014 में जेडीयू के संतोष कुशवाहा से हार गए थे। उम्मीद जताई जा रही है कि उदय सिंह पूर्णिया से कांग्रेस के उम्मीदवार हो सकते हैं। 23 मार्च को पूर्णिया में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी की रैली है, उससे ठीक पहले उदय सिंह का कांग्रेस में शामिल होना कई अटकलों को जन्म देता है। 

कभी पूर्णिया लोकसभा सीट कांग्रेस का गढ़ हुआ करता था लेकिन 90 के दशक में क्षेत्रीय पार्टियों के उभार के बाद ये सीट कांग्रेस के हाथों से निकल गई। अब कांग्रेस अपने पुराने गढ़ को फीर से पाना चाहती है। इसी रणनीति के तहत राहुल गाँधी की रैली पूर्णिया में कराई जा रही है जहाँ से वो पुरे सीमांचल को साधेंगे। एनडीए में सीमांचल की अधिकांश सीटें जेडीयू के कोटे में गई है। पूर्णिया से जेडीयू के वर्तमान सांसद संतोष कुशवाहा ने अपना नामांकन भी दाखिल कर दिया है। पूर्णिया में दोस्सरे चरण में मतदान होना है।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

 

पूर्णिया लोकसभा सीट पर 17, 53, 649 वोटर हैं जिसमे से 60 फीसदी हिन्दू और 40 फीसदी मुसलमान  हैं। ब्राह्मण वोटों की संख्या करीब सवा लाख और इतने ही राजपूत वोटर भी हैं जबकि एससी-एसटी, बीसी और ओबीसी मतदाताओं की संख्या करीब 5 लाख है। जबकि एक लाख अन्य जातियों के वोटर हैं। 1977 में इमरजेंसी के बाद हुए चुनाव को छोड़ दिया जाए तो 1984 तक इस सीट पर कांग्रेस का कब्ज़ा रहा। लेकिन उसके बाद ये सीट कांग्रेस से छीन गई तो कभी जनता दल, तो कभी सपा और कभी भाजपा के पास आई। पप्पू यादव यहाँ से निर्दलीय लड़ कर भी चुनाव जीते।