सड़कों पर प्रद’र्शन कर रहे बीएड छात्रों के समर्थन में उतरे उपेंद्र कुशवाहा, सरकार पर सा’धा नि’शाना

PATNA : राजधानी पटना में प्रदेश के बीएड के छात्र अपनी मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन कर रहे थे, तभी उपेंद्र कुशवाहा भी उनके समर्थन में वहां पहुँच गए।   उन्होंने छात्रों की मांगों पर विचार करने के लिए सरकार पर दबाव डालने की बात कही। उपेन्द्र कुशवाहा ने राज्यपाल से पूरे मामले में हस्तक्षेप करने की गुजारिश की है।

RLSP प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि कॉलेज की मान्यता र’द्द होने से छात्रों का भविष्य ब’र्बाद होगा। साथ ही उन्होंने सरकार पर सवाल हुए कहा कि आखिर सरकार की गलती का खा’मिया’जा छात्र क्यों भु’गतें। सरकार नियोजित शिक्षकों से बात क्यों नहीं करती। समान काम के बदले समान वेतन होना चाहिए। स्कूल में पर्मानेंट शिक्षकों की जरूरत होती है और यहां पर्मानेंट बहाली होनी चाहिए।

बिहार में कई बीएड के कॉलेजों की मान्यता सरकार ने निरस्त कर दी है जिसके चलते इन छात्रों का एडमिशन भी र’द्द हो गया। अब इन छात्रों की फीस के साथ साथ इनके भविष्य पर भी ख’तरा मंडरा रहा है। इनकी पढाई का एक कीमती साल ब’र्बाद होने की क’गार पर है। बिहार में शिक्षकों की भी कई सम’स्याएं हैं। आये दिन शिक्षक भी प्रद’र्शन करने को मज़बूर होते रहते हैं।

शिक्षक दिवस के दिन भी बिहार में संविदा शिक्षक अपनी मांगों को लेकर धर’ना प्रद’र्शन कर रहे थे। इस बीच सीएम नीतीश कुमार ने सभी शिक्षकों को अपना कर्तव्य निभाने की नसीहत दी थी। उन्होंने कहा कि अध्यापक का मुख्य कार्य छात्रों को शिक्षा देना है और उन्हें अपने मुख्य दायित्व से नहीं भागना चाहिए। आपको बता दें कि कई दिनों से बिहार में संविदा शिक्षक हड़ताल करते रहे हैं और अपनी मांग उठाते रहे हैं। एक बार तो उनकी सरकार से बातचीत भी हुई थी लेकिन कोई हल नहीं निकला था।