उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश सरकार को घेरा, कहा- बिहार में बढ़ा अप’राध का ग्राफ

PATNA : उपेंद्र कुशवाहा ने बिहार की नीतीश कुमार की सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने राज्य में बढ़ते अप’राध और ख’राब कानून व्यवस्था के लिए सरकार को ज़िम्मेदार ठहराया है। सवाल करने पर सत्ताधारी दल के नेताओं द्वारा 15 साल पहले की स्थिति का हवाला दिया जाता है लेकिन आज की स्थिति उससे भी ब’दतर है।

RLSP के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि वर्ष 2004 में 1,04,778 संज्ञेय अप’राध रिकार्ड किए गए थे, जबकि 2014 में यह संख्या बढ़कर 1,95,024 हो गई। 2018 में 2,62,802 सं’ज्ञेय अप’राध हुए जो कि लालू प्रसाद के कार्यकाल की तुलना में दोगुना से भी अधिक है। इस वर्ष ह’त्या की घटनाओं में हर माह इजाफा हो रहा है। जनवरी में 212, फरवरी में 221, मार्च में 292, अप्रैल में 222 और मई में 330 ह’त्या की घटना हुई है। ऐसा लग रहा है जैसे अप’राधियों को खुली छूट मिल गई है। RLSP अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने तं’ज कसते हुए कहा था कि आज के समय अप’राधी तो आधुनिक हथि’यार रखते हैं लेकिन पु’लिस के पास अंग्रेजों के ज़माने के बेकार ह’थियार हैं। ऐसे में पुलिस अप’राधियों के सामना कैसे कर पायेगी।

आपको बता दें कि इसके पहले नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने कहा था कि बिहार की लचर कानून व्यवस्था अब मरणासन्न अवस्था में पहुंच चुकी है। तेजस्वी लगातार नीतीश कुमार के शासन में हो रहे अपराध पर आक्रामक हैं। उन्होंने नीतीश कुमार के शासन को कुशासन बताया था। राहुल गांधी को कश्मीर जाने से रोके जाने के सवाल पर कहा कि सरकार कश्मीर के हालात को छिपाना चाहती है। राहुल गांधी को रोकना अलोकतांत्रिक है। केंद्र सरकार का यह ता’नाशाही रवैया है।