16 बिहारियों की मौ’त पर विनोद सिंह ने कहा-बिहार में रोजगार की कमी नहीं,लोग शौक से करते हैं पलायन

PATNA: पुणे में म’रे 16 बिहारियों पर बिहार सरकार में अति पिछड़ा कल्याण मंत्री विनोद नारायण सिंह का बेतुका बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि बिहार में रोजगार की कमी नहीं है लेकिन कुछ लोग शौक से रोजगार की तलाश में पलायन करते हैं क्योंकि उन्हें दूसरे जगह जाना और वहां के कल्चर में ढलना अच्छा लगता है। आपको बता दें कि आज विनोद नारायण सिंह, पुणे में म’रे मजदूरों के परिजनों से मुलाकात के लिए कटिहार के दौरे पर गये हैं।

आपको बता दें कि विनोद नारायण सिंह के इस बेतुके बयान का ग्रामीणों ने घोर निं’दा की और बताया कि यहां रोजगार नहीं है इसलिए तो बाहर जाते हैं। गांवों में मजदूरी बहुत कम मिलती है और हर रोज काम नहीं मिलता है। इतनी मंहगाई में जीना मुश्किल हो गया है तो पलायन नहीं करे तो क्या करें?

ग्रामीण
पुणे में 16 बिहारियों की मौ’त-

गौरतलब है कि पुणे में, 29 जून को, एक सोसायटी की दीवार गिरने से 16 लोगों की मौ’त हो गई है। मर’ने वालों में 16 लोग बिहार के कटिहार जिले के बलरामपुर थाना क्षेत्र के बघार गांव के निवासी बताए जा रहे हैं। हादसा पुणे के कोंढवा इलाके में तालाब मस्जिद के पास हुआ, जहां 60 फीट ऊंची एक दीवार ढ’हकर वहां बनी टिन की झोपड़ियों पर गिर गई। जिसमें दब कर लगभग 17 लोगों की मौ’त हो गयी है। आपको बता दें कि मृत’कों के परिवार के लिए एनडीआरएफ ने चार-चार लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की भी कर दी है।

आपको बता दें कि बिहार सरकार अभी तक एक भी रुपये देने की घोषणा नहीं की है जबकि ऐसा उम्मीद लगाया जा रहा था कि बिहार के 16 मजदूरों की जान चली गयी है तो सरकार उन गरीब परिवारों और बेसहारा हो चुके बच्चों, बुढ़े, माताओं और बहनों की कुछ सहायता करेंगे।